धान खरीदी केंद्र दुआरी में ब्यापारियों का है बोलबाला

[adsforwp id="60"]

खरीदी प्रभारी करवा रहा है खुली लूट , प्रशासन बना मूकदर्शक

शासन के नियमों को ठेंगा दिखाते हुए किसानो से 41 किलो 800 ग्राम ली जा रही है धान

खरीदी केंद्र में पाले गए हैं दलाल, सूर्यभान साकेत नामक दलाल किसानों से करता है ज्यादती

पहली दफा इतना बड़ा भ्रष्टाचार देखने को मिला धान खरीदी केंद्र दुआरी में?

रीवा-गुढ़ -:
सोशल मीडिया पर लगातार खबरें प्रकाशित होने के बाद भी भ्रष्टाचारी अपनी काली करतूतों पर लगाम नहीं लगा रहे जिसका सिर्फ एक ही कारण है कि प्रतिदिन लाखों रूपए फ्री में किसानों को ऐंठने से मिल रहा है और सीमित समय है जितना ज्यादा लूट सको तो लूट लो।
विश्वस्त सूत्रों व पीड़ित किसानों से प्राप्त जानकारी के अनुसार रीवा जिले के गुढ़ तहसील अंतर्गत धान खरीदी केंद्र दुआरी इन दिनों खुलेआम डकैती डालने का अड्डा बना हुआ है, यहां अपनी धान की उपज को बेंचने के लिए आने वाले किसानों को तौलाई के नाम पर मजदूरी व नंबर लगाने के नाम पर जमकर खुलेआम लूटा जा रहा है।इस धान खरीदी केंद्र की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यहां पर वास्तविक किसान कम ही नजर आएंगे,यहां पर सिर्फ ब्यापारियों व दलालों का बोलबाला है। एक पीड़ित किसान ने बताया कि धान खरीदी केंद्र दुआरी में दसों दलाल रखें गए हैं जिनमें सबसे सक्रिय सूर्यभान साकेत नामक दलाल है जो ब्यापारियों से प्रति ट्रैक्टर 3000 रूपए खुलेआम लेकर ब्यापारियों को सक्रिय किया है व ब्यापारियों को तबज्जों देता है किसान बेचारा अपने मेहनत से उपजाई गई धान बेचने के लिए अपनी बारी का इंतजार करता रहता है किंतु ब्यापारियों के आगे उन बेचारों का नंबर ही नहीं लग पाता क्योंकि ब्यापारियों से मोटी रकम जो मिलती है इसलिए उन्हीं का बोलबाला है।
इस मामले में खरीदी प्रभारी का क्या कहना है -:
उपरोक्त मामले पर जब धान खरीदी केंद्र दुआरी प्रभारी प्रमोद पाण्डेय से बात की गई तो उनका कहना है कि किसानों से पैसा लेने की बात मेरे संज्ञान में नहीं है और न ही मेरे द्वारा किसी कर्मचारी को बोला गया कि पैसा लो। उपरोक्त मामले व खरीदी प्रभारी की बातों को मिलाकर एक बात समझ से परे है कि खरीदी केंद्र में किसानों को खुलेआम लूटा जा रहा है और खरीदी प्रभारी को इस बात की भनक तक नहीं ,क्या ऐसा संभव है ??? दूसरी बात यह कि बिना इशारे के अधीनस्थ कर्मचारियों में इतनी हिम्मत है क्या कि किसानों से रूपए ले ??
खैर मामला जो कुछ भी हो यह जांच का विषय है लेकिन क्षेत्र में यह बात जोरों से फैली है कि धान खरीदी केंद्र दुआरी में किसानों के साथ जमकर लूट हो रही है और किसान भी परेशान नजर आ रहे हैं वहीं ब्यापारियों व दलालों की बल्ले-बल्ले है।
खरीदी केंद्र में पाले गए दलालों को कहां से मिलती है तनख्वाह,किस काम के लिए रखे गए हैं दलाल ? -: सूत्रों व किसानों से मिली जानकारी के अनुसार धान खरीदी केंद्र दुआरी में दसों दलाल रखें गए हैं जो पूरी तरह सक्रियता के साथ किसानों को लूटा-खसूट रहे हैं।धान खरीदी केंद्र में सक्रिय दलालों की सक्रियता को देखकर एक बड़ा सवाल खड़ा हो रहा है कि आखिर धान खरीदी केंद्र में ये दलाल किस काम के लिए रखे गए हैं ? दूसरी अहम व सबसे महत्वपूर्ण बात यह कि इन दलालों को तनख्वाह किस मद से मिल रही है व तनख्वाह का भुगतान कौन कर रहा है या फिर अवैतनिक रूप से काम कर रहे हैं ???

Leave a Comment

[adsforwp id="47"]
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
[adsforwp id="47"]