रीवा में एक-एक विधानसभा का गृह मंत्री अमित शाह ने मांगा हिसाब-किताब

[adsforwp id="60"]

रीवा में एक-एक विधानसभा का गृह मंत्री अमित शाह ने मांगा हिसाब-किताब

भारतीय जनता पार्टी कार्यालय में प्रत्याशियों से मुलाकात की।

अमित शाह ने रीवा समेत 9 जिलों की 30 विधानसभा सीट का जायजा लिया।

रीवा। मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2023 की कमान केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने संभाल ली है। वे आज विंध्य दौरे पर हैं। विंध्य की 30 सीटों में बूथ मैनेजमेंट से जीत का मंत्र दिया है। अमित शाह ने रीवा समेत 9 जिलों की 30 विधानसभा सीट का जायजा लिया। पहले बैठक में जिलों से आए चुनिंदा पदाधिकारियों को बूथ मैनेजमेंट से चुनाव जीत का मंत्र दिया। विधानसभा में मौजूदा हालात को समझा और जरूरी हिदायत दी।

बैठक के दौरान बागियों के प्रभाव एव वजूद की चर्चा
अमित शाह ने जिला अध्यक्ष, जिला प्रभारियों के साथ एक-एक सीट पर बरीकी से समीक्षा की। बैठक के दौरान बागियों के प्रभाव एव वजूद की चर्चा हुई । इसमें मनगवां विधानसभा से भाजपा के विधायक पंचू लाल प्रजापति एव त्योंथर के श्याम लाल द्विवेदी की चर्चा हुई । बता दें कि दोनों विधानसभा के सिटिंग एमएलए की टिकट भाजपा द्वारा काट दी गई थी श्यामलाल जहां चुपचाप घर में बैठ गए हैं वहीं पंचू लाल प्रजापति ने अपनी पत्नी पूर्व विधायक का पन्ना भाई प्रजापति को निर्धारित चुनाव मैदान में उतार दिया है।

फोकस -रैली, रोड शो नहीं डोर टू डोर
अमित शाह ने बैठक में आए भाजपा प्रत्याशियों से मिलते ही सबसे पहले उन्हें अपने-अपने क्षेत्रों में जाने को कहा। उन्होंने कहा कि बैठक में रहने की बजाए क्षेत्र में संपर्क करें। इसके बाद उन्होंने शक्ति केंद्रों के साथ बूथ मैनेजमेंट पर गंभीरता से कार्य करने को कहा। चुनाव कार्यालय कहां खुले कहा नहीं इस पर पूछताछ की। मजबूत और कमजोर सीट के आंकड़े पूछे। बूथों की स्थिति पर बात की।

विधानसभावार नाराज कार्यकर्ताओं की जानकारी मांगी
शाह ने विधानसभा में प्रवासी प्रभारी, विधानसभा प्रभारी और जिला अध्यक्षों के साथ हर सीट पर अलग-अलग समीक्षा की। सिर्फ यही नहीं अमित शाह ने जिला अध्यक्षों से विधानसभावार नाराज कार्यकर्ताओं की जानकारी मांगी। बैठक में अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा,मध्य प्रदेश चुनाव प्रभारी भूपेंद्र यादव,केंद्रीय मंत्री अश्विनी वैष्णव, संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा, संगठन के वरिष्ठ पदाधिकारी संभाग के सभी जिलों से करीब दो सौ प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

विंध्य बचाना बड़ी चुनौती
बैठक इस लिहाज से भी महत्वपूर्ण मानी जा रही है कि 2018 के विधानसभा चुनाव में विंध्य में भाजपा को 24 सीटों पर जीत मिली थी, जबकि कांग्रेस को महज़ 6 सीटों से ही संतोष करना पड़ा था लिहाजा यहां यही स्थिति पुनः दोहराने के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ सकती है।

चार कोर में बूथ -:
बूथवार रणनीति- भाजपा की बैठक के बाद बूथवार रणनीति बनीं। पार्टी ने ए, बी, सी और डी श्रेणी में बूथ बांटे है ए वो जहां पार्टी मजबूत है, बी में स्थिति सामान्य और सी श्रेणी में कभी अच्छी और कभी खराब। डी श्रेणी में हमेशा पार्टी को नुकसान होता है। ए और बी श्रेणी के बूथ के साथ सी श्रेणी पर अतिरिक्त फोकस करने को कहा। इसके अलावा 60 से 70 प्रतिशत बूथ को टारगेट कर चुनाव की रणनीति बनाने के निर्देश दिए। अमित शाह ने प्रमुख वोटर का मंत्र दिया। इसमें क्षेत्र के प्रमुख और प्रभावी लोगों को जोड़कर प्रचार करवाने की बात कही।

शाह की नसीहत
रैली-जनसभा की बजाए एक-एक वोट पर फोकस करें।

पक्के वोट वाले इलाकों में सघन दौरे कर उन्हें मजबूत बनाएं।

चुनाव कार्यालय खुले कि नहीं, प्रभारी कार्यालय में बैठते हैं कि नहीं।

प्रत्याशी के विरोधी कितने हैं चिहिन्त कर बैठाने का प्रयास तेज करें।

विपक्ष का विरोधी खेमे को चिन्हित करें।

शक्ति केंद्र में 20 लोगों की टीम बने जो हर 20 और वो अगले 20 को मतदान के लिए प्रेरित करें।

मतदान के दिन सुबह से संपर्क कर मतदाता को घर से निकालें।

दोपहर डेढ़ बजे से पहले मतदाताओं को बूथों तक लेकर जाने पर फोकस।

‘डी’ बूथ जो कभी नहीं जीते उनमें विशेष निगरानी कर सुधार करने का प्रयास करें।

प्रभावी कार्यकर्ता को लगाएं।

600 से ज्यादा पुलिस जवानों को सुरक्षा-व्यवस्था में लगाया गया था
शाह के दौरे के दौरान भाजपा एमपी अध्यक्ष वीडी शर्मा, प्रदेश संगठन मंत्री हितानंद शर्मा, वन व पर्यावरण मंत्री एवं चुनाव प्रभारी भूपेन्द्र यादव, रेल मंत्री एवं चुनाव सह प्रभारी अश्विनी वैष्णव माैजूद रहें। अमित शाह के दौरे को लेकर 600 से ज्यादा पुलिस जवानों को सुरक्षा-व्यवस्था में लगाया गया था।

बीजेपी जिला अध्यक्ष डॉ अजय सिंह ने बताया है कि आज दोपहर 1.55 बजे केंद्रीय गृहमंत्री सैनिक स्कूल के हेलीपैड पर उतरे। राज निवास में लंच कर वृंदावन गार्डन आए। एक घंटे की बैठक में बीजेपी वर्कर्स को जीत का गुणा-भाग समझाया। बैठक में रीवा संभाग के रीवा, सीधी, सतना और सिंगरौली एवं शहडोल संभाग के शहडोल, उमरिया और अनूपपुर के गिने-चुने लोग शामिल हाेंगे।

डैमेज कंट्रोल के लिए शाह ने दिया मंत्र, बागियों को साधने पर जोर
भाजपा में संगठन के कुशल पदाधिकारियों को डैमेज कंट्रोल के लिए लगाया गया है। संभाग की उन सीटों को जहां बागी या असंतुष्ट नजरें तरेर रहे हैं उन्हें चिंहित कर डैमेज कंट्रोल की योजना पर कार्य किया जा रहा है। केंद्रीय मंत्री अमित शाह ने संभागीय बैठक के दौरान इस बात पर जोर देने को कहा है। बैठक में यह जानकारी सामने आई कि जबलपुर की आठ विधानसभा सीटों में से ग्रामीण की दो व शहर की एक सीट पर बागियों व असंतुष्टों को साधना बेहद जरूरी हो गया है।

प्रभावी चेहरों को मैदान में उतार दिया है
इन सीटों पर पार्टी संकट के दौर से गुजर रही है। पार्टी ने इसके लिए प्रभावी चेहरों को मैदान में उतार दिया है। ताकि नाराज कार्यकर्ताओं को मनाकर उन्हें पार्टी के लिए कार्य करने हेतु सक्रिय किया जा सके। इसके अलावा विपक्षी दल के असंतुष्टों को साधने का भी काम करने को कहा गया है। पार्टी के नेता ऐसे असंतुष्टों से संपर्क कर लाभ लेने का प्रयास कर रहे हैं।

Leave a Comment

[adsforwp id="47"]
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
[adsforwp id="47"]