भोपाल के नीलम पार्क में संयुक्त किसान मोर्चा के धरना का आज दूसरा दिन

[adsforwp id="60"]

धरना स्थल पर लखीमपुर-खीरी नरसंहार के शहीदों की याद में ‘भारत शहीदी दिवस’ मनाया

संयुक्त किसान मोर्चा ने गृहराज्य मंत्री अजय मिश्र टैनी की गिरफ्तारी की मांग को लेकर उपायुक्त को ज्ञापन पत्र सौंपा

संयुक्त किसान मोर्चा ने दिल्ली के पत्रकारों और लेखकों की गिरफ्तारी की निंदा की

संयुक्त किसान मोर्चा, मध्यप्रदेश का राजधानी भोपाल के नीलम पार्क में आज धरने के दूसरे दिन हजारों की संख्या में किसान शामिल हुए।
धरना स्थल पर संबोधित करते हुए मेधा पाटकर ने कहा कि लखीमपुर खीरी में किसानों पर गाड़ी चढ़ाकर हत्या कराने वाले षड्यंत्रकारी अजय मिश्रा टेनी आज भी केंद्रीय मंत्री बना हुआ है। उसका बेटा आशीष मिश्रा को जेल के बाहर ला लिया गया है। देश में धर्म और जाति की विभाजनकारी राजनीति की जा रही है। उन्होंने कहा कि आंदोलनकारी आंदोलनजीवी होते हैं। आदिवासियों से उनके अधिकारों से वंचित किया जा रहा है। बिरसा मुंडा का प्रकृति धर्म सरकार मंजूर नहीं कर रही है।
संयुक्त किसान मोर्चा मध्यप्रदेश के प्रभारी एवं पूर्व विधायक डॉ सुनीलम ने कहा कि सरकार किसानों के धैर्य की परीक्षा लेना बंद करे। यदि सरकार किसानों की मांगों को पूरा नही करती है तो आंदोलन को और तेज करने के सिवाय किसानों के पास और कोई रास्ता नही बचेगा।
किसान संगठनों एवं श्रमिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा की एकता ही उसकी खुबसूरती है। जिसमें सभी को अपनी बात रखने का मौका मिलता है। चांद पर चंद्रयान भेजकर चांद की तस्वीर तो सबने देखी है लेकिन किसानों की बर्बाद हुई फसलों को न सरकार देख पा रही है न गोदी मीडिया। छुट्टा पशु और जंगली पशुओं से अपनी फसलों को बचाने के लिए किसानों को रात -रात भर रखवाली करना पड़ रहा है। सरदार सरोवर बांध की उंचाई बढ़ाकर मध्यप्रदेश के सैकड़ों गांव डुबोने का काम मोदी सरकार ने किया है। प्रधानमंत्री ने अपने जन्मदिन पर सरदार सरोवर बांध के गेट खोलकर दो लाख हेक्टेयर भूमि की फसल नष्ट कराई है। सरकार के पास अडानी अंबानी का करोड़ों रुपए कर्जा माफ करने का पैसा है लेकिन किसानों का कर्जा माफ करने के लिए पैसा नही है। इससे सरकार का किसान विरोधी चेहरा स्पष्ट दिखाई देता है।
आज लखीमपुर खीरी किसान नरसंहार के दो वर्ष पूरे हो चुके हैं। धरना स्थल पर लखीमपुर-खीरी नरसंहार के शहीदों की याद में ‘भारत शहीदी दिवस’ मनाया गया। दो वर्ष पहले आज ही के दिन, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष मिश्रा टेनी ने लखीमपुर खीरी जिले के तिकोनिया में तीन काले कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन से लौट रहे किसानों पर गाड़ी चढ़ा कर उन्हें रौंद दिया था। इस पूर्वनियोजित हत्याकांड में पांच किसान और एक निर्दोष पत्रकार शहीद हो गए थे।
धरने के बाद संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से राष्ट्रपति के नाम पुलिस उपायुक्त, भोपाल को रोष पत्र सौंपा गया है।उपायुक्त ने किसान पंचायत में आकर ज्ञापन प्राप्त किया ।
ज्ञापन में लखीमपुर खीरी नरसंहार के साजिशकर्ता केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा टेनी को मंत्रिमंडल से बर्खास्त करने और गिरफ्तार कर जेल भेजने, लखीमपुर खीरी हत्याकांड के निर्दोष किसान जो जेल में कैद हैं, उन्हें तुरन्त रिहा करने, उनपर दर्ज फर्जी मुकदमें वापस लिए जाने, शहीद किसान परिवारों एवं घायल किसानों को मुआवजा दिलाने का केंद्र सरकार से वादा पूरा कराने की मांग की गई।
संयुक्त किसान मोर्चा,मध्यप्रदेश ने दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा वरिष्ठ पत्रकार उर्मिलेश, एंकर अभिसार शर्मा, संजय रजौरा, भाषा सिंह, अनिंद्यो चक्रवर्ती और परंजय गुहा ठाकुरता समेत कई पत्रकारों के घर पर की गई छापेमारी और गिरफ्तारी की निंदा की है।
संयुक्त किसान मोर्चा ने ऐलान किया है कि कल 2 बजे तक यदि मुख्यमंत्री की ओर से संवाद की कोई सूचना प्राप्त नहीं हुई तो किसान मुख्यमंत्री से मिलने के लिए नीलम पार्क से आगे बढ़ेंगे।
नर्मदा बचाओ आंदोलन, अखिल भारतीय किसान सभा, मध्य प्रदेश किसान सभा ,भारतीय किसान युनियन टिकैत, शहीद राघवेंद्र सिंह किसान संघर्ष समिति, संयुक्त किसान मोर्चा, रीवा, एआईकेकेएमएस, सीटू, एटक, श्रमिक जनता संघ, बैंक कर्मचारी संगठन, सेंट्रल जोन इंश्योरेंस एंप्लाइज एसोसिएशन, ऑल इंडिया मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव एसोसिएशन, भारतीय किसान श्रमिक जनशक्ति यूनियन, केंद्रीय कर्मचारी समन्वय समिति, युवा मोर्चा, नर्मदा बचाओ संरक्षण समिति, नर्मदापुरम , समाजवादी जन परिषद आदि संगठनों के प्रतिनिधियों ने धरना स्थल पर पहुंच कर संबोधित किया।
जिसमें नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री मेधा पाटकर, संयुक्त किसान मोर्चा मध्यप्रदेश के प्रभारी डॉ सुनीलम, जसविंदर सिंह, अखिलेश यादव, प्रहलाद दास वैरागी, बादल सरोज यशवंत पुरोहित, प्रमोद प्रधान, ए टी पद्मनाभ, पूषण भट्टाचार्य, एड आराधना भार्गव, कमला बहन, सरस्वती बाई, गीता मीणा, शिव सिंह एड,रीना कुशवाह, गम्फू यादव, अनुराग सक्सेना, छिंगा वर्मा, संतराम वर्मा, सज्जे पटेल, आत्माराम चंद्रवंशी, प्रकाश साहू, ललित मिश्रा, मनोहर सिंह ठाकुर, जनकलाल राठौर, इंद्रजीत सिंह शंखू , दुर्गेश खवसे, बेनी प्रसाद, सीताराम ठाकुर, सुखेंद्र मढै़या, रमेश परिहार,सतीश जैन, अभिषेक पटेल संतकुमार पटेल शत्रुघन यादव, फागराम, राजेश यादव, श्रीराम सेन, रामगोपाल वर्मा सहित अन्य संगठनों के प्रतिनिधियों ने संबोधित किया। रीवा मोर्चे के संयोजक शिव सिंह ने बताया कि प्रमुख रूप से किसान नेताओं में सोभनाथ कुशवाहा तेजभान सिंह प्रदीप बसोर हरिशंकर सिंह जयभान सिंह आदि सहित सैकड़ो आंदोलनकारी उपस्थित रहे धरने में लंगर के इंतजाम रीवा के समाजसेवी निवासी भोपाल जितेंद्र मिश्र बृजेंद्र सिंह राजेश पटेल ने किया आंदोलनकारी किसानों ने अपने लंगर के लिए धनराशि का सहयोग भी किया वही मोर्चा की अगुवाई में रीवा कलेक्ट्रेट के समक्ष सुअर पशुपालकों का आंदोलन 363वें दिन जारी रहा आंदोलन में प्रमुख रूप से राजाराम बंसल पार्षद सरोज बंसल श्रीमती गीता बंसल सुरेंद्र बंसल आदि उपस्थित रहे

 

Leave a Comment

[adsforwp id="47"]
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
[adsforwp id="47"]