बघेली कवि राम-लखन ने कहा रायपुर जनपद का तानाशाही भउसा अब केसे कही

[adsforwp id="60"]

मैं रायपुर जनपद उपाध्यक्ष राम लखन सिंह बाघेल महगना

रीवा जिला संवाददाता निखिल पाठक

रीवा-रायपुर कर्चुलियान
आप सभी रायपुर कर्चु.. जनपद के क्षेत्रवासियों से कुछ अन्तर्मन की पीड़ा व्यक्त करना चाहता हूँ, जिस पर आप सबको विचार करने की जरूरत है।जनपद का चुनाव हुए 15-16 महीने हो गये,ऐसा संयोग बना की क्षेत्रिय विधायक के ना चाहते हुए इत्तफाक से मै जनपद उपाध्यक्ष बन गया, ( इसकी लम्बी कहानी है) जिस कारण से मेरे ऊपर उनकी नाराजगी साफ साफ दिखने लगी, इस कारण छोटे मोटे काम के अलावा क्षेत्र की जनता का कोई महत्वपूर्ण काम नहीं करा पाया, फिर भी लोगों का स्नेह प्रेम बराबर मिलता रहा, सभी जनपद सदस्यों के साथ पक्ष बिपक्ष का भेद ना होने के कारण बराबर सबसे अच्छा सम्बन्ध भी बन गया , जब कभी जनपद में जनपद सदस्यों की बैठक होती थी, मै सीओ साहब से बैठक में जनपद सदस्यों के सामने ही स्पस्ट यही कहता था जब कार्य योजना में फंड का अवंटन हो सभी सदस्यों को बराबर दिया जाय, लेकिन रायपुर जनपद में अध्यक्ष सुमन साकेत को अपने पक्ष में रखने के कारण विधायक प्रतिनिधि ढिल्लन सिंह की ही बात सुनी जाती थी बाँकी कोई कुछ भी कहता रहे ध्यान ही नहीं दिया जाता था। मई 2023 में सीईओ प्रदीप दुबे के द्वारा कार्य योजना मांगी गयी। सभी सदस्यों ने अपने अपने क्षेत्र के लिए काम की मांग की मै भी दो काम मांगा था एक अपने गांव में देवी मन्दिर के चबूतरा के लिए और एक दुर्मन कूट दुआरी में पेपर व्लाक के लिए अभी 6 अक्टूबर को सामन्य सभा की बैठक थी,जिसमें अधिकांश जनपद सदस्य उपस्थित हुए , जिसमे नए सीईओ संजय सिंह ने प्रवेश पटेल द्वारा कहलवाया की पहले सभी सदस्य उपस्थिति रजिस्टर में हस्ताक्षर करें, यदि दो तिहाई सदस्यों की उपस्थिती रजिस्टर में होगी तभी बैठक शुरू की जाएगी ,यह सुनकर सदस्यों ने हस्ताक्षर कर दिया, इसके बाद सी ओ साहब सभा हाल में आए, और कार्यवाही शुरू की, जैसे ही सदस्यों द्वारा फंड बितरण के सम्बन्ध में जानकारी मांगी, सीईओ साहब द्वारा बोलकर बताया गया की, 2022 – 23 और 2023 – 24 का पैसा केवल जिला पंचायत से दस सदस्यों का मंजूर हुआ है,
जिसमें अध्यक्ष को 39 लाख, कुछ सदस्यों को 20 लाख, कुछ को 15 लाख कुछ को 10 लाख, कुछ को 5 लाख, और 14 जनपद सदस्यों को और मुझे जनपद उपाध्यक्ष को जनपद का फंड एक रुपया तक नहीं दिया गया , और ये भी बताया गया कि दो वर्ष का बजट दिया जा रहा है, तो फिर सदस्यों ने जोर देकर कहा कि कार्य योजना तो आप एक बार ही मागे है, फिर ए दो वर्ष का कैसे दे रहे हैं, तो कुछ गिने चुने सदस्यों के कागज दिखाए की इनके द्वारा मागा गया था लेकिन कुछ सदस्य दिए कुछ दिए ही नहीं, तब वेदमणि त्रिपाठी द्वारा कार्य योजना का रिकार्ड दिखाया गया, और अध्यक्ष से पूँछा गया तो उन्होंने कहा कि मुझे भी इसकी जानकारी नहीं है, तब सीओ द्वारा अध्यक्ष सुमन साकेत के हस्ताक्षर दिखाए गए , लेकिन सुमन ने भरे सदन में सीईओ साहब के समक्ष ही कहा ये मेरा हस्ताक्षर नहीं है, और मेरे नाम से 39000/ की राशी दी जा रही है मुझे खुद पता नहीं है, जरूरत पडने पर उनकी रिकार्डिंग सुरक्षित है दे सकता हूँ, और आप लोग दिए ही नही, यह झूँठ सुनकर सभी सदस्य काफी आक्रोश में आ गये की 2022 में सी ओ साहब प्रदीप जी के द्वारा यही बताया गया की कोई जनपद में फंड आया ही नहीं,तो 2022 – 23 का कैसे बँट गया, मै सीईओ संजय सिंह से पूँछा की फंड के आवंटन का कोई प्रावधान है क्या, तो उन्होंने बताया सबसे ज्यादा अध्यक्ष का 15000/ तो फिर उपाध्यक्ष का 10000/फिर शेष राशि को बराबर बराबर सदस्यों को बाँटा जाना चाहिए , तो मैने पूँछा क्या ये उचित बाँटा गया है, इस पर सीईओ साहब ने कहा ये मेरे यहाँ पर आने के पहले का है इसमे मै कुछ नहीं कर सकता हूं।
चूकीं वर्तमान शासन सत्ता में मुझे (जनपद उपाध्यक्ष के पद को ) कूटनीति का सहारा लेकर जनपद में जीरो कर दिया गया है, दो साल की बजट से बंचित करवा दिया गया है,
इसके लिये कौन गुनाहगार है, आगे क्या करना चाहिए, मेरे प्रिय क्षेत्र वासियों इस बघेली कवि को आप सबने बहुत स्नेह दुलार दिया है, मै फक्कड़ कवि भले अभाव ग्रस्त हूँ लेकिन पैसे के पीछे कभी नहीं दौड़ा हमेशा सत्य का सहारा लिया है, आज तक जनपद मे ये कोई नहीं कह सकता है की कहीं भी कभी भी किसी से एक पैसे लिया हूँ जो व्यक्तिगत मुझे टारगेट करके मेरे पद को और मुझे अपमानित किया है, आप सबको मेरे साथ न्याय करना होगा, आगे कैसे न्याय करेगें आप सबके ऊपर निर्भर है।
आप सभी क्षेत्रवासियों का ही नही बल्की समूचे विन्ध्य वासियों का चहेता बघेली कवि राम लखन सिंह बाघेल महगना उपाध्यक्ष जनपद रायपुर कर्चुलियान ।

Leave a Comment

[adsforwp id="47"]
What does "money" mean to you?
  • Add your answer
[adsforwp id="47"]